wheat-import

केंद्र सरकार द्वारा गेहूँ पर आयात शुल्क (इम्पोर्ट ड्यूटी) हटाये जाने से सीधे तौर पर प्रभावित होंगे किसान

भाजपा की केंद्र सरकार नें गेहूँ पर १० प्रतिशत आयात शुल्क हटा दिया है। इसका मतलब होगा की विदेशों से गेहूँ आयात करने पर किसी तरह का कर नहीं लगेगा। इसका सीधा खामियाजा देश भर के किसानों को उठाना पड़ेगा क्योंकि बाजार में सस्ते विदेशी गेहूँ के उपलब्धता के वजह से भारतीय किसानों को गेहूँ की कीमत कम मिलेगी और भारतीय गेहूं की मांग में भारी कमी आएगी।

Finance

नीतीश कुमार के नेतृत्व में वित्तीय प्रबंधन में बिहार की क्रांतिकारी प्रगति

बिहार को इन सब कामों के लिए अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान भी मिली। सन 2013 में सिंगापुर के फ्यूचर गवर्नमेंट इंस्टिट्यूट ने राज्य सरकार को ‘गवर्नमेंट सीएफओ अवार्ड 2013’ से सम्मानित किया। नीतीश कुमार के नेतृत्व में बिहार की वित्तीय प्रणाली, प्रक्रियाओं, कानूनों और प्रबंधन में लगातार सुधार जारी है ताकि राज्य मजबूत वित्तीय नियंत्रण व संतुलन बनाए रखे और दिनोदिन ऐसे ही तरक्की करता रहे।

Communal Violence

चुनावी फायदे के लिए साम्प्रदायिक तनाव फैलाने में जुटी भाजपा

बिहार विधानसभा का चुनाव अब चंद ही दिन दूर है। ये रुझान राज्य में साम्प्रदायिक सौहार्द्र के लिए शुभ संकेत नहीं हैं। यह हम सबके लिए चिंताजनक बात है। वोटरों को साम्प्रदायिक धुव्रीकरण के प्रचार पर नजर रखनी चाहिए। इनसे होशि‍यार रहना चाहिए। भाजपा के उम्मीदवारों के मुंह से एक ओर हम ‘विकास’ की बात सुनते हैं तो दूसरी ओर जमीनी हकीकत कुछ और ही कहानी कह रही है। ध्यान रहे, वोटरों का साम्प्रदायिक आधार पर धुव्रीकरण भाजपा और उसके एनडीए सहयोगियों का चुनावी मंत्र बन चुका है।

Crime 1

आंकड़े बता रहे बिहार में अपराध लगातार कम हो रहे, उसके उलट भाजपा शासित राज्यों में काफी ज्यादा अपराध

बिहार में अपराध में जबरदस्त कमी आई है। आंकड़ों का गहन अध्ययन करने के बाद पता चलता है कि एक ओर जहां 2005 के बाद अपराध की हर घटना बेहतर तरीके से दर्ज होनी शुरू हुई, वहीं दूसरी ओर अपराध की वास्तविक संख्या में निरंतर गिरावट दिखाई दी।

Communal Tension

बिहार के वोटरों को साम्प्रदायिक ताकतों से क्यों होशि‍यार रहना चाहिए

बिहार के ये रूझान बता रहे हैं कि चुनावी फायदे के लिए भाजपा साम्प्रदायिक हिंसा को उकसा रही है। ऐसी आशंका है कि जैसे- जैसे चुनाव के दिन नजदीक आएंगे,उकसावे और तनाव की घटनाएं बढेंगी। भाजपा की चाहे जो भी चालबाजियां हों,जदयू-राजद-कांग्रेस महागठबंधन को पूरी उम्मीद है कि वोटर ऐसे दांव-पेच से होशि‍यार रहेंगे। वे समुदाय या धर्म के नाम पर उकसाने की किसी भी कोशि‍श के शि‍कार नहीं होंगे।

Page 1 of 71234...7...Last »